Posted by: prithvi | 18/11/2010

मावठ की बूंदें

मावठ की बूंदें बालकनी से अंदर आती हैं और बारिश शब्‍द हवा में तैर जाता है. ढाई साल की उर्वी तो बारिश शब्‍द सुनते ही बूंदों सी नाचने लगती है. बारिश देखेंगे… क्‍लेपिंग क्‍लेपिंग. सर्दी धीरे धीरे जीवन में उतर रही है छोटे होते दिनों और लंबी रातों के सा‍थ. सर्दी, ऐसा मौसम जब रजाई जिंदगी में प्रेमिका से भी ज्‍यादा करीब हो जाती है और यादों के शाल, स्‍वेटर, मफलर जिस्‍म पर बीवी सा अधिकार जमा लेते हैं. कभी मुस्‍कराती, डराती, कभी रूलाती यादें. यादों में न तो पहाड़, फूलों से ज्‍यादा भारी होते हैं न फूलों का वजन पहाड़ों से कम. ऐसी मावठ यादों में लंबे- लंबे गन्‍ने वाले खेतों को ले आती है या सरसों की मेड़ों को, जिनकी गीली माटी में आज भी कुछ निशां बाकी हैं. कुछ वादे गेहूं के खेतों में निराई गुड़ाई करते नज़र हैं तो कई सपने अलाव सा जलते. मावठ अनेक ऐसी यादों की फसल को उगा देती है हर साल.

तो हाड़ी की फसल के लिए वरदान कही जाने वाली सर्दी की यह पहली बारिश यानी मावठ हो रही है. घर से काचर आए हैं. चटनी तो बनेगी ही. कुंडी में साबुत लाल मिर्च के साथ रगड़ कर बनाएंगे. रही भाभी के हाथों की खुश्‍बू वाले चूंटिए (कच्‍चे घी) की बात तो घर से आया घी है ना. उमेश कह रहा है कि दिल्‍ली का मौसम बड़ा ‘सेक्‍सी’ हो गया है. … (जारी)

 


 

Advertisements

Responses

  1. Hello Prithvi ji, Mauth ke bare m aapka likha pada. bahut achchha laga. yadon ke khet m lajane wala lekh achchha laga.

  2. Bhai thode se KACHAR hamaare ko bhee bhez do ham bhee chatni bana le….ghee to ghar se aayaa huyaa hai….delhi me kachar hi nahi milte…

  3. यादों का बेहतरी से वर्णन और राजस्थान की वारिश का महत्व भी…

    सुन्दर..इस भू-भाग की झलकियां पेश करने के लिए धन्यवाद

  4. यादों का बेहतरी से वर्णन
    और राजस्थान की वारिश
    का महत्व भी…
    सुन्दर..
    इस भू-भाग की झलकियां
    के लिए
    धन्यवाद

  5. अच्छा लिखा है जी…..
    ओ लेख भी बांचो सा…
    http://aapnibhasha.blogspot.com/2009/01/blog-post_3935.html

  6. aap ko to dekh ke toh bas swarup khan ki yaad aati hain

  7. राजस्थान में सर्दी की
    बरसात को मावठ कहते हैं !
    इस बरसात का बहुत महत्व है !
    मावठ की बरसात में
    गेहूं-चना-सरसों-तारामीरा-जौ
    आदि की फ़सलों को लाभ होता है !
    =======================
    अच्छी रपट !बधाई !

  8. bhaee kachar kee chatnee hame bahut pasand hai pr vah bantee kaise hai pta nahee btave

  9. nice story


कुछ तो कहिए..

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: