Posted by: prithvi | 18/08/2009

पैसा या पढ़ाई!

‘..आज की दुनिया में दो ही चीजें चलती हैं पैसा या पढाई. आपके पास खूब पैसा है तो ठीक है नहीं तो आप पढाई में अव्‍वल होने चाहिएं. वरना किसी काम के नहीं. इसलिए हम चाहते हैं कि छोटे भाई खूब पढ लें.’

नारायण नाम ही बताया था उस 19..20 साल के यु‍वक ने. लूणकरणसर से बीकानेर जाते हुए बस में मुलाकात हो गई. वह गंगानगर से भीलवाड़ा जा रहा था और अपनी मंजिल बीकानेर तक ही थी. बात चल पड़ी तो बताया कि वह भीलवाड़ा के लुहारिया गांव का है. आइस‍क्रीम का काम है. देश भर में मेवाड़प्रेम और भोलेनाथ के नाम से जो रेहडियां लगी होती हैं उन पर अधिकांश लोग भीलावाड़ा या आसपास के ही होते हैं.

यह सावण के महीने की बात है. इलाके में कल ही बूंदाबांदी हुई है. नारायण की शादी छोटी उम्र में ही हो गई थी. मुकलावा (आणा) यानी गौना नहीं हुआ सात आठ साल से वह बाहर रह रहा है. अहमदाबाद से लेकर इंदौर, कोच्चि से लेकर चेन्‍नई और चंडीगढ़ से लेकर कोलकाता तक.. शायद ही ऐसा कोई बड़ा शहर हो जिसकी खाक उसने नहीं छानी हो. साल में आठ महीने बाहर रहते हैं, चार महीने घर पे.

पांच भाई और चार बहनों के परिवार वाला नारायण कहता है कि वैसे तो सबकुछ है. जमीन जायदाद, भेड़ें, दुकानें .. ठीकठाक जीवन कट रहा है. पैसे की कमी नहीं. फिर बाहर रहने की वजह पूछी तो किसी दार्शनिक के अंदाज में बोला, ‘धाप नहीं है ना, किसे धाप (संतोष) है पैसे से. जी नहीं भरता ना, इसीलिए लगे हैं.’ परिवार के ज्‍यादातर पुरूष इसी काम यानी आइसक्रीम बेचने में हैं.
uuu
नारायण कहता है कि छोटा भाई और एक बहन पढ रही है. वे पढना चाहते हैं और हम चाहते हैं कि जितना ज्‍यादा हो पढ ले ताकि हमारी तरह धक्‍के नहीं खाने पड़ें. टैम पैसे और पढाई का ही है. दोनों ही हर किसी के पास नहीं होते. कोशिश करनी चाहिए कि कम से कम एक तो हो.

वैसे देश दुनिया में धक्‍के खाने की परिपक्‍वता उसकी बातों से नजर आती है. हमने पूछा इतनी जगह रह हो भारत में, सबसे अच्‍छी कौनसी लगती है तो बोला,’ जहां पैसा मिले वही.. पैसा मिलना चाहिए, कमाई होनी चाहिए.. जगह चाहे कोई भी हो.’ वैसे उसकी नज़र में इंदौर औरों से बेहतर है.

जिंदगी के अनुभव और उम्र का कोई संबंध नहीं है. जीवन की ठोकरें कई बार पैरों के पंजों और अंगुलियों को समय से पहले ही कठोर बना देती हैं.

लूणकरणसर, जामसर और कस्‍तूरिया एक एक कर छोटे मोटे गांव निकलते रहे… अंधेरा घिरने लगा था. बीकानेर अब ज्‍यादा दूर नहीं था. मौसम में उमस थी.

Advertisements

Responses

  1. जीवन ही सबसे बड़ा शिक्षक है. जिसका जैसा जीवन उसका वैसा ज्ञान.
    सुंदर पोस्‍ट.

  2. दरअसल जिंदगी भी हमारा हर वक़्त किसी न किसी रूप में इम्तिहान लेती रहती है..! इसका सामना हर एक को करना पड़ता है… जो सांमजस्य बिठा ले वही पास है..


कुछ तो कहिए..

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: