Posted by: prithvi | 03/02/2009

बेटियां..

बेटियां ही बेटियां… पिछले कई महीनों से सोच रहा था कि इस बारे में बात की जाए. मेरे कई मित्रों ने 2008 को बेटियों का साल बताया. इस दौरान अनेक घरों में बेटियां आईं, बहुत से घरों में पहले बच्‍चे के रूप में बेटी आई. मेरे कार्यालय या मित्र मंडली में अधिकतर के यहां 2008 में बेटी हुई. जिनके यहां बेटी हुई वे खुश हैं. बेटी होने पर थाली भले ही नहीं बजती हो लेकिन पहले जैसे स्‍यापा भी नहीं होता. एक मित्र कह रहे थे कि परिवार में संतुलन के लिए कम से कम एक बेटी होना बहुत जरूरी है. वह परिवार में नैतिक व चारित्रिक रूप से संतुलन बनाती है और लडकियों के प्रति आम धारणा को तोडती है. कई लोग ऐसी बात कह रहे हैं.. आप इस खबर और बात पर क्‍या कहते हैं .. हमारी पहली पंचायत इसी तथ्‍य पर है.. अपने विचार रखिए हमें अच्‍छा लगेगा.

Advertisements

Responses

  1. Dear Prithvi
    Tum hindi men likhte ho mere liye roman? Koi baat nahi ek ghante men ganganagar zila ghumane ke liye dhanywad. Meri yadon men aaj bhi shekhawati ke gaon hen, jahan mera bachpan beeta hai.Pata nahi muzhe ganganagar ke gaon kabhi gaon nahi lagte, Jaise aaj ke bacche muzhe bacche nahi lag kar Pure aadmi ke ‘bonsai’ lagte han.
    Shesh Fhir kabhi

    Vrihaspati

  2. कुड़ी तां वास्‍वत च हर इक घर च होणी चाहिदी है तां ही ता पता चलदा है कि इक कुड़ी बहू मां, भैण, सस ते होर पता नहीं किने किरदार निभाउंदी है पर बिना ऊफ कीते जदकि असीं तां अवें ही चौड़ीयां हिक्‍कां करके फुले फिरदे हां। गल्‍लां ता जनाब मेरे वरगे बहुत करदे लैंदे ने पर जद आप ते पैंदी है तां साडा किरदार वी बदल जांदा है। साडा पुरख प्रधान समाज ऐस नू समझ नहीं रिहा तां ही हाले वी साडी आबादी दा इक वडा तबके दियां कुड़ीयां पता नहीं किदां-किदां दे जुल्‍म सह रहिया ने। ऐस स्थिति नूं बदलन वास्‍ते बीड़ा तां सानू ही चुकणा पवेगा। हालांकि इसदी शुरूआत तां हो चुकी है पर हाले तक बहुत छोटे पधर ते ऐहे शुरूआत है इस नूं वडे पधर ते शुरू करना पवेगा तां ही स्थिति च बदलाव आ सकदा है।

  3. Appka pryas kabile-tarif hai. Dua hai aap kuchh naya dene ka pryas krengen. aasman main chhed nazar aata hai, jarur kisi dushyant ne pathar uchhala hoga.
    lage raho pirithi bhai
    dheron badhai sath hi mangal kamnao sahit

  4. Good attempt Prithvi.Keep it up.

  5. hello sir…betiya pda bhut achha lga but jaisa isme likha hai ki parivar me santulan ke liye betiya hona jruri hai…isliye main to yhi khungi ki jaise pani bina machli nahi rah skti waise hi bina girls ke koi bhi is duniyan ka hona soch bhi nahi skta……………………………………………………….

    betiyan lyf ka wo motiyon ka mala hai jo ek hisse ko dusre hisse se jodti hai…..uske baad hi aap nishchint hokar ghar se bahar nikal skte hain or……….jeevan ko chalane me betiyon ka hi mukhay kirdar hota hai…….
    …………………………………………………………

  6. good


कुछ तो कहिए..

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: